Accueil scribe invert.png
हिन्दी विकिस्रोत पर आपका स्वागत है।
एक मुक्त पुस्तकालय जिसका आप प्रसार कर सकते हैं।
हिंदी में कुल २,१८३ पाठ हैं।

अगस्त की निर्वाचित पुस्तक
निर्वाचित पुस्तक

सप्ताह की पुस्तक
सप्ताह की पुस्तक

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

Ramanama.pdf
रामनाम मोहनदास करमचंद गाँधी के राम नाम से संबंधित आलेखों, विचारों एवं पत्रों का संग्रह है जिसका पहला संस्करण अहमदाबाद के नवजीवन प्रकाशन मंदिर द्वारा १९४९ ई. में प्रकाशित किया गया था।

"छह-सात सालकी अुम्रसे लेकर १६ वर्ष तक विद्याध्ययन किया, परन्तु स्कूलमे मुझे कही धर्म-शिक्षा नहीं मिली। जो चीज शिक्षकोके पाससे सहज ही मिलनी चाहिये, वह न मिली। फिर भी वायुमडलमे से तो कुछ न कुछ धर्म-प्रेरणा मिला ही करती थी। यहा धर्मका व्यापक अर्थ करना चाहिये। धर्मसे मेरा अभिप्राय है आत्म-भानसे, आत्म-ज्ञानसे।
वैष्णव सप्रदायमे जन्म होनेके कारण बार-बार वैष्णव मदिर (हवेली) जाना होता था। परन्तु अुसके प्रति श्रद्धा न अुत्पन्न हुअी। मन्दिरका वैभव मुझे पसन्द न आया। मदिरोमे होनेवाले अनाचारोकी बाते सुन-सुनकर मेरा मन अुनके सम्बन्धमे अुदासीन हो गया। वहासे मुझे कोअी लाभ न मिला।
परन्तु जो चीज मुझे अिस मन्दिरसे न मिली, वह अपनी धायके पाससे मिल गयी। वह हमारे कुटुम्बमे अेक पुरानी नौकरानी थी। अुसका प्रेम मुझे आज भी याद आता है। मैं पहले कह चुका हूं कि मै भूत-प्रेत आदिसे डरा करता था। अिस रम्भाने मुझे बताया कि अिसकी दवा रामनाम है। किन्तु रामनामकी अपेक्षा रम्भा पर मेरी अधिक श्रद्धा थी। अिसलिअे बचपनमे मैने भूत-प्रेतादिसे बचनेके लिअे रामनामका जप शुरू किया। यह सिलसिला यो बहुत दिन तक जारी न रहा, परन्तु जो बीजारोपण बचपनमे हुआ, वह व्यर्थ न गया। रामनाम जो आज मेरे लिअे अेक अमोघ शक्ति हो गया है, अुसका कारण अुस रम्भाबाअीका बोया हुआ बीज ही है।..."(पूरा पढ़ें)

सभी सप्ताह की पुस्तकें देखें, सप्ताह की पुस्तक सुझाएं


पूर्ण पुस्तकें
पूर्ण पुस्तकें

इन पुस्तकों को विकिस्रोत पर लाने का कार्य पूरा हो चुका है:

  1. पाँच फूल - प्रेमचंद का कहानी संग्रह
  2. हीराबाई - किशोरीलाल गोस्वामी द्वारा रचित उपन्यास
  3. प्रताप पीयूष - प्रतापनारायण मिश्र के लेखों तथा कविताओं का संग्रह।
  4. दुर्गेशनन्दिनी प्रथम भाग - बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखित बांग्ला उपन्यास
  5. कोड स्वराज - सैम पित्रोदा और कार्ल मालामुद द्वारा लिखित नागरिक प्रतिरोध का विवरण
  6. हिन्द स्वराज - गाँधी द्वारा लिखित पहली सैद्धांतिक पुस्तक
  7. गोदान - प्रेमचंद लिखित हिंदी उपन्यास

सभी पूर्ण पुस्तकों की सूची देखें।


विज्ञान
विज्ञान और समाज विज्ञान
समाज विज्ञान

विकिस्रोत पर उपलब्ध विज्ञान और समाज विज्ञान की पुस्तकें:
  • विज्ञान =
  • पर्यावरण =
  • इतिहास = २५
  • भूगोल =
  • राजनीति विज्ञान =
  • अर्थशास्त्र =
  • दर्शनशास्त्र = १४
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी

रचनाकार
रचनाकार

प्रेमचंद
भारतीय डाक टिकट पर प्रेमचंद

प्रेमचंद (३१ जुलाई १८८० – ८ अक्टूबर १९३६) हिन्दी और उर्दू के अत्यंत लोकप्रिय कथाकार एवं विचारक थे। विकिस्रोत पर उपलब्ध उनकी रचनाएँ:

  1. सेवासदन – १९१८, हिंदी में प्रकाशित पहला उपन्यास।
  2. प्रेमाश्रम – १९२२, किसान आंदोलन की महागाथा।
  3. रंगभूमि - १९३१, मंगला प्रसाद पारितोषिक से सम्मानित।
  4. गबन - १९३१, साधारण स्त्री जालपा के अद्वितीय बनने की गाथा।
  5. कर्मभूमि – १९३२, किसानों की लगान समस्या पर केंद्रित उपन्यास।
  6. गोदान – १९३६, औपनिवेशिक चक्की में पिसते किसान जीवन की महागाथा।
  7. पाँच फूल – १९२९, पाँच कहानियों का संग्रह।
  8. नव-निधि – १९४८, नौ कहानियों का संग्रह।
  9. प्रेमचंद की सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ – १९५०, कहानी संग्रह।
  10. मानसरोवर १ - मानसरोवर के आठ खंडों में से प्रथम खंड।

विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी लेखकों के लिए देखें- समस्त रचनाकार अकारादि क्रम से।


आज का पाठ

Download this featured text as an EPUB file. Download this featured text as a RTF file. Download this featured text as a PDF. Download this featured text as a MOBI file. Grab a download!

Vaman-Shivaram-Apte.jpg
वामन शिवराम आपटे का जीवन परिचय महावीर प्रसाद द्विवेदी द्वारा रचित निबंध-संग्रह कोविद-कीर्तन में संकलित है जिसका प्रकाशन १९२७ ई॰ में इंडियन प्रेस लिमिटेड, प्रयाग द्वारा किया गया।

"१८८५ से १८९२ ईसवी तक वामनराव ने "फ़र्गुसन-कालेज" की प्रधानाध्यक्षता बड़ी ही दक्षता से निबाही। उनके प्रयत्न से कालेज की अधिकाधिक उन्नति होती गई। उनकी शिक्षण-पद्धति बहुत ही प्रशंसनीय थी। उनसे उनके छात्र सदा प्रसन्न रहते थे। विशेषतः जब वे संस्कृत के काव्यों और नाटकों की मीमांसा करने लगते थे तब उनके विवेचन से उनके विद्यार्थियों को पराकाष्ठा का आनन्द होता था और विवेचित विषय उनके हृत्पटल में तत्काल अङ्कित सा हो जाता था।
इस प्रकार १२ वर्ष-पर्यन्त अपनी अपूर्व अध्यापन-शक्ति से महाराष्ट्र-देश को उत्तम शिक्षा प्रदान करके अकाल ही में वामनराव ने परलोक के लिए प्रस्थान कर दिया। ९ अगस्त १८९२ को, अर्थात् केवल ३४ वर्ष के वय में, वे अल्पायु हो गये। महाराष्ट्र-देश का एक अलौकिक रत्न खो गया। संस्कृत का अनन्यभक्त सर्वदा के लिए तिरोहित हो गया।..."(पूरा पढ़ें)

सभी आज का पाठ देखें, आज का पाठ सुझाएं और नियम देखें


संगीत
कला और साहित्य
साहित्य

विकिस्रोत पर उपलब्ध कला और साहित्य की पुस्तकें:
विकिस्रोत पर उपलब्ध सभी विषयों के लिए देखें विषय श्रेणी


आंकड़े
आंकड़े

विकिमीडिया संस्थान

विकिस्रोत विकिमीडिया संस्थान, एक गैर-लाभान्विन्त संस्थान द्वारा संचालित है, जिसे अन्य मुक्त-सामग्री परियोजना निम्न हैं:
                     
कॉमन्स विकिपुस्तक विकिडेटा विकिसमाचार विकिपीडिया विकिसूक्ति विकिप्रजाति विकिविश्वविद्यालय विकियात्रा विक्षनरी मेटा-विकि
एक ऐसे विश्व की कल्पना करें, जिसमें हर व्यक्ति ज्ञान को बिना किसी शुल्क के किसी से भी साझा कर सकता है। यह हमारा वादा है। इसमें हमें आपकी सहायता चाहिए: आप हमारे परियोजना में योगदान दे सकते हैं या दान भी कर सकते हैं। यह हमारे जालस्थल के रख रखाव आदि के कार्य आता है।
किसी अन्य भाषा में पढ़ें