लेखक:बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय

बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय
(1838–1894)
बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय (बंगाली: বঙ্কিমচন্দ্র চট্টোপাধ্যায়) (२७ जून १८३८ - ८ अप्रैल १८९४) बंगाली के प्रख्यात उपन्यासकार, कवि, गद्यकार और पत्रकार थे। भारत के राष्ट्रीय गीत 'वन्दे मातरम्' उनकी ही रचना है जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के काल में क्रान्तिकारियों का प्रेरणास्रोत बन गया था। रवीन्द्रनाथ ठाकुर के पूर्ववर्ती बांग्ला साहित्यकारों में उनका अन्यतम स्थान है। आधुनिक युग में बंगला साहित्य का उत्थान उन्नीसवीं सदी के मध्य से शुरु हुआ। इसमें राजा राममोहन राय, ईश्वर चन्द्र विद्यासागर, प्यारीचाँद मित्र, माइकल मधुसुदन दत्त, बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय, रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने अग्रणी भूमिका निभायी। इसके पहले बंगाल के साहित्यकार बंगला की जगह संस्कृत या अंग्रेजी में लिखना पसन्द करते थे। बंगला साहित्य में जनमानस तक पैठ बनाने वालों मे शायद बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय पहले साहित्यकार थे।


Speaker Icon.svg one or more chapters are available in a spoken word format.

Open book Scans

बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय

रचनाएंसंपादित करें

उपन्याससंपादित करें

अन्यसंपादित करें

अप्राप्य या विवादित रचनाएंसंपादित करें

संचयनसंपादित करें

रचनाएं बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय संबंधितसंपादित करें

जीवनवृत्तात्मक आलेखसंपादित करें

साहित्यिक आलोचनासंपादित करें