प्रताप पीयूष (१९३३) 
by प्रतापनारायण मिश्र

[  ]

प्रताप-पीयूष

स्वर्गीय पंडित प्रतापनारायण मिश्र

के

उत्तमोत्तम लेखों तथा कविताओं

का

संग्रह।



संकलनकर्त्ता

रमाकान्त त्रिपाठी, एम० ए०,

प्रोफेसर, जसवन्त कालेज, जोधपुर।


प्रकाशक

सिटी बुक हाउस, कानपुर ।


संस्करण
[मूल्य।।]
१९३३
[  ]




To know, to esteem, to feel and then to part Make life's tale to many a feeling heart.

S. T. Coleridge.

तन्त्री, नाद, कवित्त, रस, सरस राग रति रंग।
अनबूड़े बूड़े, तरे, जे बूड़े सब अंग॥

(बिहारी)

Our many thoughts and deeds, our life and love,
Our happiness, and all that we have been,
Immortally must live and burn and move,
When we shall be no more...............

Shelley.




Printed by S. N. Tandon at The City Press, Cawnpore.

[  ]

विषय-सूची

पृष्ठ

आलोचनात्मक अंश ............१-३९

निबंध

साहित्यिक ............४३-९८

१. श्राप ............ ४४

२. युवावस्था ............५१

३. भौ ............५४

४. खुशामद ............५८

५. धोखा ............६१

६. परीक्षा ............६९

७. दांत ............७२

८. 'द' ............७८

९. 'ट' ............८१

१०. स्त्री ............८६

११. दो ............९०

१२. खड़ी बोली का पध ............९६

सामयिक तथा परिहासपूर्ण ........१०१-१२०

१. कलिकोष ............१०१ [  ]

(२)

पृष्ठ

२. किस पर्व में किसकी बनि आती है.........१०४

३. किस पर्व में किस पर आफत आती है....१०६

४. ककाराष्टक............१०८

५. मुक्ति के भागी............११०

६. होली है............११२

विभिन्न ............१२३-१६७

१. मतवादी अवश्य नर्क जायेंगे........१२३

२. 'ब्राह्मण' के उद्देश्य........१२९

३. 'ब्राह्मण' की अंतिम विदा........१३२

४. शिवमूर्ति.............१३३

५. सोने का डंडा और पौंडा........१४७

६. पंच-परमेश्वर........१५०

७. स्वतंत्र............१५७

कविता

सामयिक .............१७१-१८२

१. स्वामी दयानन्द की मृत्यु पर शोक-प्रकाशन....१७१

२. भारतेंदु हरिश्चन्द्र के स्वास्थ्य-लाभ के उपलक्ष में .......१७२

३. चार्ल्स ब्रैडला की मृत्यु परप........१७५

४. होली है अथवा होरी है........१७७

परिहासपूर्ण तथा व्यंगपूर्ण.........१८५-१९३

१. 'विवादी बढ़े हैं यहाँ कैसे कैसे'........१८५ [  ]

(३)

पृष्ठ

२. 'वह बद.खू राह क्या जाने वफ़ा की'.....१८६

३. ककाराष्टक........१८७

४. जन्म सुफल कब होय ?.........१८९

विभिन्न ..........१९७

१. प्रेमसिद्धांत ...........१९७-२२२

२. " (उर्दू अनुवाद).........१९८

३. स्फुट कवित्त और सवैया.....१९९

४. कानपुर-महिमा ...........२०१

५. बुढ़ापा-वर्णन........२०२

६. सभा-वर्णन (वर्णनात्मक).....२०३

७. लावनियाँ ('मन की लहर' से) .......२०४

८. समस्यापूर्तियाँ.......२०६

९. तृप्यताम्..........२०८

१०. लोकोक्तियाँ (लोकोक्तिशतक' से) ......२१६

११. हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान.......२१८

१२. प्रार्थना १........२२०

१३. प्रार्थना २........२२१

१४. भजन १........२२२

१५. भजन ३........२२२


[  ] [  ]








प्रस्तावना
[  ]
प्रताप पीयूष.djvu

स्वर्गीय पं. प्रतापनारायण मिश्र


PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष २०२० के अनुसार, १ जनवरी 1960 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg