पृष्ठ:दुर्गेशनन्दिनी द्वितीय भाग.djvu/५३

यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
५०
दुर्गेशनन्दिनी।



तुझसे मिलूंगी।'

इस प्रकार तोष जनक बातें कहकर विमला ने तिलोत्तमा को समझाया किंतु उसने तिलोत्तमा के हेतु जो अपना जाना बंद रक्खा इसका भेद तिलोत्तमा को कुछ न मालूम हुआ बहुत दिन से तिलोत्तमा के मुख पर प्रसन्नता के चिन्ह नहीं देख पड़ते थे बिमला की बातें सुनकर आज उसका बदन कमला सा खिल उठा। बिमला को भी उसकी दशा देखकर आनंद हुआ। गदगद स्वर से बोली ‘लो अब में जाती है।’

तिलोत्तमा ने कुछ सकुच कर कहा ‘मैं देखती हूं कि तू दुर्ग की सम्पूर्ण बातों को जानती है बता तो हम लोगों के और साथी कहां है कौन किस दशा में है ?’

बिमला ने देखा कि इस विपद में भी जगत सिंह तिलोत्तमा को नहीं भूलते। उसने उनका कठोर पत्र पाया था उस में तिलोत्तमा का नाम भी नहीं था, इस बात को सुनकर तिलोत्तमा को और भी दुःख होगा इसलिये उसका ज़िक्र न करके बोली——

‘जगतसिंह भी इसी दुर्ग में हैं और कुशल से हैं।’

तिलोत्तमा चुप रह गई।

बिमला आंसू पोंछते २ वहां से चली गई।

तेरहवां परिच्छेद।
अंगूठी दिखलाना।

बिमला के जाने के पीछे तिलोत्तमा के मन में चिन्ता उत्पन्न हुई । पहिले तो यह सोचकर मनको बा आनंद हुआ कि अब शीघ्र दुष्ट के बंधन से छुटूंगी और फिर बिमला का उस पर स्नेह और तद्वारा उद्धार। फिर सोचने लगी कि छूट कर